एलपीजी गैस का हिंदी फुल फॉर्म पर द्रवीभूत पेट्रोलियम गैस होता है ! इसका लिक्विफाइड पेट्रोलियम गैस यह अंग्रेजी फुल फॉर्म है ! एलपीजी हाइड्रोकार्बन गैसों का ज्वलनशील मिश्रण है ! एलपीजी जिसके बारे में आपने जरूर कहीं ना कहीं सुना होगा ! पर कहीं ऐसे लोग हैं ! जिन्हें एलपीजी गैस खाना बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है यह लगता है !

lpg-full-form

पर यह आपकी सोच गलत है बल्कि एलपीजी गैस रसोई के अलावा और कहीं जगह पर इस्तेमाल किया जाता है ! क्या हैरान हो गए ना ? तो आज के इस लेख में हम एलपीजी के उपयोग के बारे में जानने वाले हैं  !

इसी के साथ एलपीजी गैस क्या है एलपीजी गैस के लिए अप्लाई कैसे करते हैं इन प्रश्नों के बारे में आज के इस लेख में हम जानने वाले हैं ! तो कृपया करके आर्टिकल पूरा जरूर पढ़े ताकि आपभी एलपीजी गैस के बारे में जान सके !

एलपीजी गैस क्या है ?

LPG जिसे द्रवीभूत गैस भी कहा जाता है ! एलपीजी गैस रसोई के अलावा अन्य उपकरणों में भी किया जाता है ! इसी के साथ ईंधन गैस के स्वरूप में यह वाहनों में भी इस्तेमाल किया जाता है ! ओजोन लेयर कम होने के कारण एलपीजी गैस का एरोसॉल और क्लोरोफ्लोरोकार्बन की जगह इस्तेमाल किया जा रहा है !

इसके अलावा एलपीजी का रेफ्रिजरेंट के रूप में भी इस्तेमाल किया जा रहा है ! एलपीजी जब वाहन में ईंधन के रूप में इस्तेमाल किया जाता है तब इसे ऑटो गैस भी कहा जाता है ! एलपीजी गैस में तीन गैस का मिश्रण होता है ! ब्यूटेन, प्रोपेन, एथेन इन तीनों गैस को मिलाकर एलपीजी गैस बनता है ! कहीं बार परीक्षा में भी यह प्रश्न पूछा जाता है कि आखिर एलपीजी में मुख्य घटक कौन सा होता है ? तो इसका जवाब है ब्यूटेन !

एलपीजी में ज्यादा करके ब्यूटेन गैस का इस्तेमाल किया जाता है ! ब्यूटेन, प्रोपेन और एथेन इन तीनों गैस पर दबाव देने के बाद यह द्रव के रूप में आता है इसी कारण इसे द्रवीभूत गैस भी कहा जाता है !

एलपीजी गैस की खोज सर्वप्रथम 1910 में डॉक्टर डब्ल्यू सनेलिंग ने किया था ! जिसमें c2H6, C3H8 और c4h10 इन तीन मुख्य गैस का इस्तेमाल किया जाता है ! एलपीजी यह पैट्रोलियम या फिर वेट प्राकृतिक गैस से बनता है. पेट्रोलियम यानी कि कच्चे तेल के संशोधन के दौरान इस गैस को खोजा जाता है !

LPG Connection के लिए अप्लाई कैसे करें?

एलपीजी गैस कनेक्शन लेने के लिए आपके पास दो विकल्प होते हैं ! तो आप खुद जाकर डॉक्यूमेंट सबमिट कर के ले सकते हैं या फिर ऑनलाइन !

ऑफलाइन कनेक्शन लेने के लिए आपको आपके नजदीकी गैस सप्लायर के पास जाना होगा ! आपको एक फॉर्म भरना पड़ता है जिसमें आप की जानकारी आपको पर नहीं पड़ते ! इसके साथ आपको कुछ डॉक्यूमेंट जोड़ने करने पड़ते हैं जैसे कि

– Aadhar Card
-Pan Card
-Driving License
-Passport

इनमें से कोई भी एक डॉक्यूमेंट आप आईडेंटिटी प्रूफ में इस्तेमाल कर सकते हैं ! इसके अलावा एड्रेस प्रूफ में आपको

– Aadhar Card
– Light Bill
– Ration कार्ड

अन्य डाक्यूमेंट्स में से कोई एक डॉक्यूमेंट को देना पड़ता है ! यह प्रक्रिया पूरी होने के बाद आपको सिलेंडर दिया जाता है ! जिसमें आपको रेगुलेटर, गैस Deposit और मैकेनिक के पैसे देने पड़ते है जिससे मैकेनिक आपके घर में आपका गैस कनेक्शन लगाकर दे देता है !

एलपीजी गैस का उपयोग

रसोई

कही सारे देशों में आर्थिक कारणों से एलपीजी का इस्तेमाल किया जाता है ! LPG खाना पकाने के लिए अधिक लोकप्रिय गैस बन चुका है ! सर्वे के हिसाब से भारत में 8.9 मिलीयन टन एलपीजी 6 महीनों में इस्तेमाल किया जाता है !

इसी के साथ नॉर्थ अमेरिका में ग्रिलिंग के लिए या फिर घरेलू रसोई के लिए एलपीजी का इस्तेमाल किया जाता है !

मोटर इंजन

LPG Gas का उपयोग जब ईंधन के तौर पर किया जाता है ! तब इसे ऑटो प्रोपेन या फिर ऑटो गैस कहा जाता है ! कई देशों में 1940 में स्पार्क इग्निशन इंजन के लिए एलपीजी का ही इस्तेमाल किया जाता था  !

पेट्रोल या इंधन तेल की तुलना में एलपीजी में ऊर्जा घनत्व कम होता है ! इसी कारण सरकार एलपीजी में कम कर लगाती है !

रेफ्रिजरेशन

एलपीजी का इस्तेमाल रेफ्रिजरेशन के लिए भी किया जाता है ! इसमें Pure, Dry Propane का इस्तेमाल किया जाता है जिसमें बहुत कम ग्लोबल वार्मिंग की क्षमता है !

एलपीजी के फायदे

  1. परिवहन के लिए एलपीजी आसान है।
  2. एलपीजी प्रकृति को नुकसान पहुंचे ऐसे गैस उत्पादन करता है जैसे CO, NOX ।
  3. LPG स्वच्छ जलता है क्योंकि इसमें सल्फर नहीं होता।
  4. एलपीजी अन्य स्त्रोतों की तुलना में कम प्रकृति को नुकसान पहुंचाता है।
  5. एलपीजी रसोई के अलावा अन्य चीजों में भी इस्तेमाल किया जाता है जैसे कि गाड़ियों में या फिर रेफ्रिजरेशन में।
  6. अन्य गैस की तुलना में एलपीजी की उपलब्धता ज्यादा है।

एलपीजी के नुकसान

  1. एलपीजी सिलेंडर भारी होते हैं।
  2. LPG हवा से भारी होते हैं। लीक होने से दम घुट सकता है।
  3. एलपीजी ज्वलनशील है घर के काम करते वक्त एलपीजी पर ध्यान रखना बहुत जरूरी है। यह बोहोत नुकसान पहोचा सकता है।
  4. LPG गाड़ियों में इस्तेमाल करते वक्त हम पहाड़ या फिर खराब रोड पर नहीं गाड़ी चला सकते क्योंकि एलपीजी में इतनी ताकत नहीं होती।

एलपीजी और सीएनजी में क्या फर्क है ?

कहीं लोग ऐसा समझते हैं कि सीएनजी और एलपीजी समान है पर यह दोनों बोहोत काम चीजोमे सामान होते है। तो चलिए जानते हैं आखिर दोनों में क्या अंतर हैं।

सीएनजी यह मीथेन से बनाया जाता है। एलपीजी प्रोपेन और ब्यूटेन से बनाया जाता है। सीएनजी पेट्रोल के विकल्प पर गाड़ियों में इस्तेमाल किया जाता है। एलपीजी रसोई और रेफ्रिजरेशन चीजों में भी इस्तेमाल किया जाता है।

सीएनजी जल्दी नष्ट हो जाता है बदले में एलपीजी जमीन पर ही रहता है । CNG एलपीजी की तुलना में सस्ता है। सीएनजी की उपलब्धता कम है। बल्कि एलपीजी अच्छी तुलना में उपलब्ध है। सीएनजी गैस Tanks एलपीजी की तुलना में भारी होते हैं।

आज क्या सीखा

आज के इस लेख में हमने एलपीजी के बारे में जानकारी देखि जिसमें एलपीजी क्या है, एलपीजी के उपयोग क्या है, एलपीजी और सीएनजी में क्या अंतर है, एलपीजी के फायदे और नुकसान क्या है, एलपीजी गैस के लिए कैसे अप्लाई करें इन जैसे सवालों के बारे में बड़े आसान भाषा में हमने जानकारी देखी।

तो दोस्तों आज के इस लेख से आपको जरूर पता चल गया होगा कि एलपीजी रसोई के अलावा और कितनी जगह इस्तेमाल किया जाता है।

अगर आज का यह लेख आपको पसंद आया हो तो शेयर जरूर करें ताकि और भी लोग इस लेख के बारे में जान सकें और इस लेख के बारे में मन में कुछ सवाल हो तो कमेंट जरूर करें हम आपके कमेंट का जरूर जवाब देंगे धन्यवाद ।

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here